ऑनलाइन आवेदन
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हमारी प्रेरणा

अध्यात्म सरोवर के राजहंस, राष्ट्रहित-चिंतक, महातपस्वी, महाकवि, प्रतिभास्थली प्रणेता
आचार्य भगवन् 108 श्री विद्यासागरजी महाराज

समाचार और घटनाक्रम

महामना, महातपस्वी, हमारी प्रेरणा, दिगम्बराचार्य 108 आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज ससंघ रेवती रेंज, प्रतिभास्थली ज्ञानोदय विद्यापीठ, इंदौर में विराजमान है।

प्रतिभास्थली प्रणेता आचार्य भगवन गुरुदेव श्री विद्यासागर जी महाराज का ससंघ सहित भव्य मंगल प्रवेश रेवती रेंज (इंदौर) में हुआ। प्रतिभास्थली परिवार द्वारा आकर्षक रांगोली बनाकर, छात्राओं द्वारा मंगल दीप तथा बड़े-बड़े कलशों द्वारा भव्य आगवानी हुई। पादप्रक्षालन एवं आहारदान करने का सौभाग्य प्रतिभास्थली की दीदियों तथा छात्राओं को प्राप्त हुआ।

प्रतिभास्थली इंदौर की छात्राओं ने द्वितीय वार्षिक महोत्सव में कई अनोखी प्रस्तुतियाँ दी। जिसमें भारत में मातृभाषा के बनते-बिगड़ते के स्वरुप को विभिन्न प्रस्तुतियों के माध्यम से दर्शाया। छात्राओं की इस प्रस्तुति से प्रेरित होकर उपस्थित सभाजनों ने अपने हस्ताक्षर और मोबाइल के संदेश हिंदी भाषा में करने तथा अपने व्यापार इत्यादि भी हिंदी भाषा में रखने का संकल्प लिया। सभी ने इस कार्यक्रम की सराहना की।

प्रवेश प्रारंभ
2020-21
7 दिसंबर 2019 से
प्रवेश परीक्षा - प्रत्येक शनिवार एवं रविवार
प्रात: 10 बजे से शाम 4 बजे तक
केवल कक्षा 4 के लिए

प्रवेश प्रक्रिया ...

चंदना को महावीर के साक्षात दर्शन
6 जनवरी 2020 क दिन प्रतिभस्थली ज्ञानोदय विद्यापीठ, इंदौर के लिए बहुत ही शुभ एवम मंगलमय रहा। क्योंकि आज शबरी के समान प्रतीक्षारत प्रतिभास्थली की दीदीयों और छात्राओं की भावनापूर्ण हुई। आज प्रतिभास्थली प्रणेता आध्यात्मसरोवर के राजहंस, पंचमकाल के महाश्रमण की नवदा भक्ति पूर्वक आहारचर्या का सौभाग्य प्राप्त हुआ।

“सफलता किसी कुंजी की मोहताज नहीं होती”। ऐसी ही सफलता को अपनी मेहनत से प्राप्त किया प्रतिभास्थली कक्षा 7वीं की छात्रा कु. ओशी जैन ने। जिसने दीदीयों से प्रशिक्षण प्राप्त कर अंर्तविद्यालयीन शतरंज प्रतियोगिता में कई प्रतियोगी छात्राओं को शिकस्त देकर इस दिमागी खेल में द्वितीय स्थान प्राप्त कर अपनी प्रतिभास्थली का नाम रोशन किया।

जीवन को अनुशासित बनाने तथा शरीर में स्फूर्ति और मन को प्रसन्न करने वाले खेलों का मूलभूत व्यवहारिक ज्ञान प्राप्त कराने प्रतिभास्थली की छात्राओं को “देवी अहिल्या विश्व विद्यालय के शारिरिक शिक्षा विभाग” के प्रमुख प्रो. दीपक मेहता जी ने बाल छात्राओं को क्रिकेट से संबधित विभिन्न नियमों की जानकारी दी तथा छात्राओं के साथ उन्होंने भी क्रिकेट खेला। इसके साथ ही खो-खो, कबड्डी बैडमिंटन तथा ट्रेक स्पेशलाइजेशन के भी नियमों से अवगत कराकर छात्राओं के ज्ञानवर्धन के लिए उन्हे विषय संबधी व्यवहारिक ज्ञान प्रदान किया गया।

पर्युषण पर्व के पावन अवसर पर प्रतिदिन दस धर्मों का पवित्र उद्देश्य तथा उनकी सारगर्भिता के विषय पर उद्बोधन के साथ–साथ उनको ग्रहण के उद्देश्य को पूर्ण करते हुए प्रत्येक दिन आकर्षक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिसके अंतर्गत भजन प्रतियोगिता, नृत्य आरती प्रतियोगिता, कौन बनेगा धर्म शिरोमणि, बारह भावनाओं की अभिव्यक्ति, मूक अभिनय, कवि सम्मेलन, रंगोली प्रतियोगिता और हाइकू ड्रामा का प्रस्तुतीकरण प्रतिभास्थली की छात्राओं के द्वारा किया गया। इसी के साथ प्रतिदिन तत्वार्थ सूत्र जी का वाचन छात्राओं द्वारा किया गया।

5 अगस्त 2019 को आगामी रक्षा बंधन के हर्ष में छात्राएँ स्वयं राखी बनाकर प्रोत्साहित हुईं।

3 अगस्त 2019 संस्कारों की पाठशाला के तहत छात्राओं के उत्साह वर्धन हेतु कक्षा 6वीं द्वारा आयोजित भजनमयी अंताक्षरी प्रतियोगिता में सभी छात्राओं ने बढ़-चढ़ कर भाग लिया।

19 जुलाई 2019 को शाला की समस्त छात्राओं द्वारा ग्रीष्म कालीन परियोजना कार्य को कक्षा 7वीं की छात्राओं द्वारा आयोजित शैक्षणिक प्रदर्शनी में प्रस्तुत किया गया।

गुरु पूर्णिमा पर छात्राओं द्वारा प्रस्तुति-
16 जुलाई 2019, गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर गुरु-शिष्य संबंधों का सुंदर दस्तावेज़ प्रस्तुत करते हुए छात्राओं द्वारा आचार्य गुरुदेव श्री विद्यासागर जी महाराज ससंघ के सानिध्य एवं समस्त प्रतिभास्थाली परिवार की उपस्तिथि में बिम्ब-प्रतिबिम्ब नाटिका प्रस्तुत की गई। जिसमें आचार्य भगवन को गुरु महाराज आचार्य श्री ज्ञानसागर जी महाराज के प्रतिबिम्ब के रूप में बताया गया।

सुविचार

  • दायित्व भार
    कंधो पर आते शक्ति
    सो न सकती।

    -आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज

वीडियो गैलरी

हिंदी का महत्व

वार्षिक समारोह

मंगलाचरण

योग